युवाओ के मानसिक स्वास्थ पर सोशल मिडिया का अधिक इस्तेमाल बहुत प्रभाव डाल रहा है, जिससे उनके व्यक्तिगत संबंधों और शिक्षा पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है. विशेषज्ञों कि माने तो कई युवाओ कि जीवनशैली में बदलाव और कई में ‘असामान्य’ व्यवहार देखे गए है.

यह बात तो सभी जानते है कि सोशल मीडिया पर घंटो बिताने वाले लोग वास्तविक दुनिया से बहुत दूर चले जाते है.
एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि वे लोग जो इन साइट्स के ज़रिये ज्यादा दोस्त बनाते हैं उनके निजी विशेषकर प्रेम संबंधों को नकारात्मक प्रभावों से जूझना पड़ता है

विशेषज्ञों का कहना है कि जब सोशल लाइफ और सोशल मीडिया आपस में टकराते है तो नुक्सान सिर्फ सोशल लाइफ को ही होता है और इसका असर आपके संबंधों पर भी पड़ता है

दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में वरिष्ठ मनोवैज्ञानिक डॉ. संदीप वोहरा द्वारा बताया गया कि, ‘सोशल मीडिया और फेसबुक तथा ट्वीटर जैसे प्लेटफॉर्म दोधारी तलवार साबित हो रहे हैं। या तो ज्यादातर युवाओं का इन पर शोषण होता है या फिर उन्हें इसकी लत लग जाती है। दोनों ही मामलों में मनोवैज्ञानिक समस्याएं होती हैं।’

उन्होंने ने यह भी बताया कि अस्पताल में ऐसे 80 से 100 मरीज हर हफ्ते आते हैं, जिनमें इंटरनेट की लत के कारण पैदा हुए बदलाव के मरीज भी शामिल हेते हैं

screenshot_6
सोशल मीडिया से होने वाले नुक्सान

Advertisement
Loading...
  • लोगो में नकारात्मकता का अधिक होना
  • लोगो में एकांत भाव विकसित होना
  • लोगो का हर छोटी बात पे अत्यधिक आक्रोशित हो जाना
  • सोशल क्राइम का शिकार होना
  • लोगो का भुल्लकड़ होना
  • लोगो का आक्रामक होना

बाल एवं किशोर मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञ डॉ. रोमा कुमार का कहना है कि सोशल मीडिया का अधिक इस्तेमाल करने वाले युवा ‘अपने जीवन का नियंत्रण अन्य लोगों के हाथों में दे देते हैं।’

फेसबुक और ट्विटर का इस्तमाल भले ही आपको दोस्‍तों के संपर्क में रहने के लिए अच्‍छा लगता हो.लेकिन इनका ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपकी याद्दाश्‍त पर असर डालता है, हाल ही में हुए एक अध्ययन के मुताबिक सोशल मीडिया की लत आपको भुलक्‍कड़ बना सकती है.

Most of us are on the Internet on a daily basis and whether we like it or not, the Internet is affecting us. It changes how we think, how we work, and it even changes our brains and people are deal with short term memory loss(STML). So be be aware and do not use so much social media sites.

Web-title: How social media is playing with our brains

keywords: Memory Loss, Addiction, Social, Media

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here